अलवर में CM योगी के मंच पर गुरुद्वारे को नासूर बताया, राजस्थान से पंजाब तक भड़का सिख समाज

राजस्थान तक

ADVERTISEMENT

अलवर में सीएम योगी के मंच पर गुरुद्वारे को नासूर बताया, राजस्थान से पंजाब तक भड़का सिख समाज
अलवर में सीएम योगी के मंच पर गुरुद्वारे को नासूर बताया, राजस्थान से पंजाब तक भड़का सिख समाज
social share
google news

Sandeep Dayma controversial statement: राजस्थान के तिजारा में बाबा बालकनाथ (Baba Balaknath) की एक चुनावी सभा में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ (yogi adityanath) पहुंचे थे. सभा में बीजेपी नेता संदीप दायमा ने गुरुद्वारों को नासूर बता दिया. इतना ही नहीं, उन्होंने गुरुद्वारों को खत्म करने की भी बात कह डाली. खास बात ये है कि इस दौरान योगी आदित्यनाथ मंच पर मौजूद थे और इस बयान पर वह भी तालियां बजाते दिखे. अब संदीप दायमा के बयान के बाद राजस्थान से पंजाब तक सिख समाज की नाराजगी देखने को मिल रही है.

सोशल मीडिया पर भी बीजेपी नेता संदीप दायमा के बयान को लेकर सिख समाज की नाराजगी नजर आ रही है. सिख समाज से जुड़े लोगों ने चुनाव आयोग के अधिकारियों से मिलकर संदीप दायमा पर कार्रवाई करने की भी मांग की है. हालांकि संदीप दायमा ने एक वीडियो बनाकर सिख समाज से हाथ जोड़कर माफी मांगी है. लेकिन इसके बावजूद विरोध थमथा हुआ नजर नहीं आ रहा है.

मैं ऐसा सोच भी कैसे सकता हूं: संदीप दायमा

आज चुनावी भाषण में मैं मस्जिद मदरसे की जगह गुरुद्वारे साहिब के बारे में कुछ गलत शब्दों का प्रयोग मेरे से हुआ है. मुझे नहीं पता मेरे से कैसे गलती हुई है. ऐसे सिख समाज की जिन्होंने हमेशा हिंदू धर्म की, सनातन धर्म की हमेशा रक्षा की हो. ऐसे सिख समाज के बारे में मैं सोच भी नहीं सकता कि मैं ऐसी गलती कर सकता हूं. मैं इस गलती का कैसे गुरुद्वारे में जाकर पश्चाताप करूंगा. मैं पूरे सिख समाज से हाथ जोड़कर माफी मांगता हूं.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

बीजेपी नेताओं ने भी की कार्रवाई की मांग

बीजेपी नेता संदीप दायमा की तरफ से दिए गए बयान को लेकर पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी नाराजगी जाहिर की है. इसके अलावा पंजाब बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने भी दायमा पर कार्रवाई की मांग की है. उन्होंने कहा, “नागरिकों की धार्मिक भावनाओं के खिलाफ राजस्थान के नेता के बयान को माफ नहीं किया जा सकता. मैंने केंद्रीय नेतृत्व को इसके बारे में अवगत कराया है. कोई भी माफी इस असंवेदनशील टिप्पणी के कारण आहत हुई भावनाओं और गुस्से को कम नहीं कर सकती.”

यह भी पढ़ें: राजस्थान के लोग वोट करते वक्त पार्टी देखेंगे या नेता? सर्वे में दिया ये चौंकाने वाला जवाब

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT