Pali: 13 दिन पहले मंडप से भागी थी दुल्हन, शादी करने की जिद पर अड़ा रहा दूल्हा, अब 7 फेरे लेकर घर पहुंचा

Bharat Bhushan

ADVERTISEMENT

Pali: 13 दिन पहले मंडप से भागी थी दुल्हन, शादी करने की जिद पर अड़ा रहा दूल्हा, अब 7 फेरे लेकर घर पहुंचा
Pali: 13 दिन पहले मंडप से भागी थी दुल्हन, शादी करने की जिद पर अड़ा रहा दूल्हा, अब 7 फेरे लेकर घर पहुंचा
social share
google news

Pali: पाली जिले के बाली उपखंड के सैणा गांव में 3 मई को दूल्हा बारातियों के साथ सुबह 6 बजे ससुराल पहुंचा. बारातियों के स्वागत के साथ ही सभी रस्में हो गई थी. सुबह 7 बजे फेरे होने वाले थे. आधे घंटे पहले पेट दर्द और उल्टी बहाना बनाकर दुल्हन भाग गई थी. जिसको 15 मई को पता लगने के बाद लाकर उसके माता पिता को सुपुर्द किया.

वहीं 13 दिनों से इंतजार कर रहे दूल्हे की 16 मई को रस्मों रिवाजों को पूर्ण कर शादी कर विदाई दी. दुल्हन के भाग जाने के बाद दूल्हा परिजनों के साथ दुल्हन को साथ ले जाने की जिद पर अड़ा हुआ था और 13 दिनो से ससुराल में बैठा था. दुल्हन के इंतजार में दूल्हे ने सेहरा भी नहीं उतारा था.

पेट दर्द का बहाना बनाकर भागी दुल्हन

दरअसल, 3 मई को सकाराम के घर बेटी की शादी थी. सिरोही जिले के कैलाश नगर के पास मणादर गांव के रहने वाले श्रवण कुमार पुत्र दिनेश परमार के साथ रिश्ता तय हुआ था. दूल्हा बारातियों के साथ 3 मई को सुबह 7 बजे सेगा गांव पहुंचा. जहां बारातियों की आवभगत की गई. सबकुछ सही चल रहा था. करीब 6.15 बजे दुल्हन ने उल्टी और पेट दर्द का बहाना बनाया. पंडित ने फेरों की रस्म के लिए दुल्हन को मंडप में बुलाने के लिए कहा. इस पर तबीयत खराब होने की बात पर थोड़ी देर रूकने के लिए कहा.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

चचेरे भाई के साथ फरार हुई थी दुल्हन

इसी दौरान उल्टी होने की बात कहकर दुल्हन मकान के पीछे टंकी के पास जा पहुंची. जहां पहले मौजूद रिश्ते में चचेरे भाई के साथ फरार हो गई. काफी देर तक दुल्हन वापस नहीं लौटी तो मौसी ने जाकर देखा. आसपास नहीं दिखने पर परिजनों के होश उड़ गए.

पिता ने कहा- भगाने वाला लड़का पहले से तैयार था

दुल्हन के पिता सकाराम ने बताया कि उनकी बेटी फेरों से पहले अंदर तैयार होने गई थी. इस दौरान पेट दर्द का बहाना बनाया और शौचालय के बहाने घर के पीछे गई थी. जहां भगाने वाला लड़का पहले से तैयार था. सकाराम ने कहा कि आरोपी मेरे मामा के लड़के शिवलाल का बेटा भरतकुमार है. जो भाटूंद का रहने वाला है.

ADVERTISEMENT

अनोखा मायरा: बैलगाड़ी पर सवार होकर बहन के घर पहुंचा भाई, नजारा देख हर कोई खिंचवाने लगा फोटो

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT