Vasundhara के बहाने Gehlot का सीना छलनी कर रहे Pilot! ’25 सितंबर वालों पर कार्रवाई कब’?

राजस्थान तक

ADVERTISEMENT

Pilots are ripping Gehlot’s chest on the pretext of Vasundhara! ‘When will action be taken against those on September 25’?

social share
google news

सुन लीजिए सीएम साहब.. एक बार फिर.. सचिन पायलट की आपसे शिकायत। और जवाब दीजिए उन सवालों का जो पायलट पिछले 16 दिनों से उठा रहे हैं। 9 अप्रैल को सचिन पायलट ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस रखी, 11 अप्रैल को अनशन किया और उतर गए एक बार फिर गहलोत के सामने सीना तान के। पायलट के वो दो सवाल अब भी बरकरार हैं जो हमने आपको पहले बताया था। गहलोत से भ्रष्टाचार का सवाल और कांग्रेस आलाकमान से कार्रवाई का सवाल। फिलहाल पायलट के मैदान में उतरे हुए 16 दिन हुए हैं, उनके हाथ खाली हैं लेकिन लड़ाई का जोश बरकरार है। पायलट ने फिर भ्रष्टाचार के मुद्दे पर अपने ही सरकार पर सवाल उठाया। वही सवाल दोहराते हुए कहा कि अपनी बातों और सवालों के लिए लड़ता रहूंगा। लेकिन शायद पायलट को ये नहीं पता कि जितना वो गहलोत से सवाल पूछेंगे, उतना ही दोनों के बीच तनातनी बढ़ेगी, और बढ़ती जाएगी राजस्थान में कांग्रेस की मुश्किलें।

अब पायलट ने गहलोत पर एक और बड़ा हमला किया है। राजस्थान में पेपरलीक के तार सीधा आरपीएससी से जुड़े थे। ये बात अब साफ तौर पर सामने आ चुकि है। कई सरकारी बाबू और नेता-मंत्री भी पेपर लीक में शामिल हो सकते हैं। बिना उपर के आशीर्वाद के पेपर लीक तो क्या कोई भी घोटाला नहीं होता। और यहां तो परीक्षा से ज्यादा पेपर लीक ही होते हैं। इसी पर पायलट काफी नाराज दिखे और गहलोत सरकार पर बड़ा हमला बोल दिया।

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

यह भी देखे...

पायलट ने आलाकमान को फिर से गहलोत गुट के बगावत की याद दिला दी, पूछ लिया कि मेरी बगावत नजर आती है, तो गहलोत गुट ने जो एंटी-पार्टी काम किया उसका क्या। सचिन पायलट के ये लगातार हमले, गहलोत को घायल कर रहे हैं। हालांकि गहलोत शांत बैठे हैं। अभी तक उन्होंने पायलट के सवालों पर साफ तौर पर कुछ भी नहीं बोला। सचमुच पायलट ने गहलोत के लिए एक बार फिर बड़ी मुसीबत खड़ी कर दी है, वो भी जब चुनाव सर पर है। गहलोत अपनी योजनाओं का ढोल पीट रहे हैं, और पायलट हैं कि उन्हीं की टांग खींचने में लगे हैं। गहलोत, वसुंधरा और भ्रष्टाचार का नाम लेकर पायलट ने जो रायता फैलाया है वो अभी और फैलेगा। आलाकमान साफ करने में लगा है लेकिन अभी तक रंधावा से लेकर खड़गे तक और राहुल से लेकर प्रियंका तक.. पायलट को मनाने में सब फेल हैं। अब देखना होगा पायलट कब शांत होते हैं और कहीं पायलट के शांत होने से पहले गहलोत तो कुछ नहीं कर बैठते। जो भी हो इस बार गहलोत-पायलट की ये लड़ाई काफी दिलचस्प होने वाली है और हो सकता है पायलट पर भी जल्द कोई बड़ा फैसला हो जाए।

Pilots are ripping Gehlot’s chest on the pretext of Vasundhara! ‘When will action be taken against those on September 25’?

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT