कोटपूतली-बहरोड में ACB का बड़ा एक्शन! पटवारी को 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों किया ट्रैप

राजस्थान तक

ADVERTISEMENT

Rajasthantak
social share
google news

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB) की टीम ने सोमवार को कोटपूतली बहरोड जिले में बड़े एक्शन को अंजाम दिया. एसीबी ने हल्का पटवारी (patwari arrested) को 10 हजार की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया और रिश्वत की राशि उसके पेंट की जेब से बरामद की. रिश्वत की राशि रजिस्टर्ड हक त्याग का नामांतरण खोलने के लिए मांगी गई थी.

मामला कोटपूतली बहरोड जिले की बानसूर तहसील के गांव ओसपुर का है.  परिवादी नेतराम व उसके भाई श्योराम ने रजिस्टर्ड हक त्याग के लिए नामांतरण खोलने के लिए आवेदन किया था. बानसूर तहसील के हल्का शाहपुरा का पटवारी अनिल कुमार यादव नामांतरण खोलने की एवज में 10 हजार की रिश्वत मांग रहा था जिसके बाद दोनों भाइयों ने इसकी शिकायत एसीबी से की.

एसीबी ने ऐसे बनाई ट्रैप करने की योजना

सबसे पहले एसीबी ने मामले का सत्यापन ​कराया. मामला सही पाए जाने पर पटवारी को ट्रैप करने की योजना बनाई गई. एसीबी के डीआईजी कालूराम रावत के सुपरविजन में अलवर एसीबी प्रथम के डीएसपी महेंद्र कुमार मीना ने कार्रवाई को अजांम दिया. पहले एसीबी टीम ने परिवादी को 10 हजार रुपए देकर पटवारी के कार्यालय भेजा. पटवारी ने नेतराम व उसके पौते मनोज से 10 हजार लेकर पेंट की जेब में रख लिए. रिश्वत की रकम लेते ही बाहर खडी एसीबी टीम ने पटवारी मनोज कुमार यादव को पकड़ लिया. एसीबी की टीम ने पटवारी की तलाशी ली. इस दौरान उसकी जेब से 10 हजार रुपए बरामद किए गए. 

पटवारी के बैंक अकाउंट की भी हो रही जांच

एसीबी के अधिकारियों ने बताया कि पटवारी मनोज कुमार यादव को ट्रैप करने के बाद एसीबी की टीम ने उसके गांव उंदपुर में घर की तलाशी ली. पटवारी के बैंक अकाउंट की जांच की जा रही है. एसीबी की टीम पटवारी को लेकर अलवर कार्यालय पहुची. यहां पटवारी से पूछताछ की जा रही है. नामांतरण से संबंधित कागजातों को एसीबी ने जब्त कर लिया है. एसीबी की टीम पटवारी का फोन भी चेक कर रही है.

यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT