विवाद बढ़ता देख अपने बयान से पलटे शिक्षा मंत्री मदन दिलावर, बोले- 'आदिवासी हिंदू समाज के श्रेष्ठतम लोग'

Satish Sharma

ADVERTISEMENT

तस्वीर: राजस्थान तक.
social share
google news

आदिवासियों पर दिए गए शिक्षा मंत्री मदन दिलावर (education minister madan dilawar) के बयान पर विवाद बढ़ता ही जा रहा है. भारतीय आदिवासी पार्टी (BAP) के सांसद राजकुमार रोत और कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasara) समेत कई नेताओं ने उनके बयान पर जमकर पलटवार किया है. इसके बाद शनिवार को उदयपुर पहुंचे मदन दिलावर ने अपने बयान को लेकर सफाई दी है. 

अपने बयान को लेकर मदन दिलावर ने कहा, "मुझसे कल पूछा गया कि कुछ लोग खुद को हिंदू नहीं मानते हैं तो मैंने ये कहा था कि हम डीएनए की जांच करा लेंगे या फिर वंशावली देखने वालों को दिखवा देंगे. लेकिन इस बयान को आदिवासी से जोड़ दिया गया. मैं कहना चाहता हूं कि आदिवासी समाज के लोग श्रेष्ठतम है जिन्होंने सालों से पेड़ों की रक्षा की जिनसे हमें प्राणवायु मिलती है. आदिवासी समाज (Tribal Society) के लोग हिंदू समाज के श्रेष्ठतम लोग हैं."

"डोटासरा ने पेपर लीक करवाया"

मदन दिलावर ने कहा कि राजस्थान के सबसे भ्रष्ट व्यक्ति गोविंद सिंह डोटासरा हैं. पेपर लीक प्रकरण में डोटासरा का सीधा-सीधा हाथ था और उन्होंने राजस्थान में पेपर बिकवाने का काम किया है. शिक्षा मंत्री ने आगे कहा कि वह जल्द ही सलाखों के पीछे होंगे.

प्राइवेट स्कूलों का किया गुणगान

निजी स्कुलों में हो रही ​फीस बढोतरी के सवाल पर शिक्षा मंत्री ने आमजनता की पैरवी करने के बजाय निजी स्कूलों की ही पैरवी कर दी. दिलावर ने कहा कि प्रदेश के 97 फीसदी निजी स्कुल कम संसाधनों ओर फीस में बच्चों को पढाकर सेवा का काम कर रहे हैं. 97 ​फीसदी स्कूल के प्रबंधकों का अपना घर चलाना तक मुश्किल हो रहा है. महज 3 फीसदी स्कूल ज्यादा फीस वसूल रहे है, जिन्हें भी समझाने का प्रयास किया जायेगा.

यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT