राहुल गांधी की यात्रा के खिलाफ राजस्थान हाईकोर्ट के वकील ने डीजीपी को सौंपा परिवाद, बताई ये वजह

ADVERTISEMENT

Rajasthantak
social share
google news

Rahul gandhi: कांग्रेस नेता राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा को रोके जाने की मांग होने लगी है. यह मांग राजस्थान हाईकोर्ट के वकील ने की है. एडवोकेट विजय कलंदर का कहना है कि राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा देश की एकता और अखंडता के लिए बड़ा खतरा है. उन्होंने इस बारे में राजस्थान के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) और जयपुर पुलिस कमिश्नर को परिवाद भी सौंपा है. साथ ही विजय कलंदर ने मांग की है कि राहुल गांधी की न्याय यात्रा को किसी भी हाल में राजस्थान में प्रवेश नहीं दिया जाए और राहुल गांधी पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए. यह पूरा मामला पीएम मोदी की जाति को लेकर राहुल गांधी के एक बयान से जुड़ा है. दरअसल, हाल ही में भारत जोड़ो न्याय यात्रा में राहुल गांधी ने पीएम मोदी की जाति को लेकर कहा था कि मोदी जन्म से ओबीसी नहीं हैं और उन्हें ओबीसी गुजरात की भाजपा सरकार ने बनाया है.

इस पर एडवोकेट विजय कलंदर का कहना है कि ” कांग्रेस (Congress) नेता राहुल गांधी (Rahul gandhi) ने यह बयान विभिन्न वर्गों या समुदायों को अन्य समुदायों के खिलाफ उकसाने के इरादे से दिया है. उनका यह बयान देश की सुरक्षा को खतरे में डालने वाला है. इसलिए देश में अशांति पैदा करने वाली राहुल गांधी का भारत जोड़ो न्याय यात्रा को तुरंत रोका जाए.”

राहुल गांधी पर लगाया अपनी जाति छिपाने का आरोप

वकील ने केरल के वायनाड से सांसद राहुल गांधी पर अपनी जाति छिपाकर लोगों को गुमराह करने का भी आरोप लगा है. विजय कलंदर का कहना है “राहुल गांधी अपने कई बयानों में खुद को कश्मीरी कौल ब्रह्माण और दत्तात्रेय गौत्र का बताते आए हैं. जबकि उनके दादा फिरोज गांधी गैर हिंदू परिवार से थे. माननीय भारतीय न्यायालय का स्पष्ट निर्देश है कि बच्चे की जाति वही होगी, जो उसके पिता की होगी और उसे बदला नहीं जा सकता. इस हिसाब से राजीव गांधी और राहुल गांधी की जाति भी वही होगी जो फिरोज गांधी की है. ऐसे में राहुल गांधी ने राजनीतिक लाभ लेने के लिए अपनी जाति छिपाकर लोगों को गुमराह किया है. इससे मुझ जैसे कई लोगों की धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं. इसलिए राहुल गांधी पर सख्त से सख्त कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए.”

अधीर रंजन चौधरी के खिलाफ भी दर्ज करवा चुके हैं परिवाद

जुलाई 2022 में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को ‘राष्ट्रपत्नी’ कहकर संबोधित कर दिया था जिस पर जमकर बवाल मचा था. उनके इस बयान को लेकर एडवोकेट विजय कलंदर ने भी जयपुर के गलता गेट पुलिस थाने में परिवाद दिया था. डेढ़ साल से ज्यादा समय गुजर जाने के बावजूद अभी तक उस मामले में जांच लंबित है. इस बयान को लेकर उन्होंने कोर्ट में भी इस्तगासा पेश किया था लेकिन डेढ़ साल बीत जाने के बाद भी कोर्ट ने अभी तक इस संबंध में कोई ऑर्डर जारी नहीं किया है.

यह भी पढ़ें...

यह भी पढ़ेंः जोधपुर में गजेंद्र सिंह शेखावत के खिलाफ लगे पोस्टर, लोकसभा में केंद्रीय मंत्री की राह मुश्किल?

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT