वसुंधरा राजे को प्रबंधन और संकल्प पत्र समिति में नहीं मिली जगह, अरुण सिंह बोले–चुनाव प्रचार करेंगी

राजस्थान तक

ADVERTISEMENT

वसुंधरा राजे को प्रबंधन और संकल्प पत्र समिति में नही मिली जगह, अरुण सिंह बोले–चुनाव प्रचार करेंगी
वसुंधरा राजे को प्रबंधन और संकल्प पत्र समिति में नही मिली जगह, अरुण सिंह बोले–चुनाव प्रचार करेंगी
social share
google news

Rajasthan BJP: बीजेपी ने गुरुवार को राजस्थान (Rajasthan Election 2023) में आगामी चुनावों को देखते हुए दो समितियों की घोषणा की. बीजेपी ने विधानसभा चुनावों की तैयारियों की आगे बढ़ाते हुए चुनाव प्रबंधन समिति और संकल्प पत्र समिति (Election Management Committee and Manifesto Committee) का गठन किया. इन समितियों की घोषणा के बाद हर कोई हैरान है. क्योंकि इन समितियों में एक नाम शामिल नहीं है और वह नाम है वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) का. राजनीतिक हल्कों में चर्चाओं का बाजार गर्म हो चुका है. हर तरफ वसुंधरा राजे की बीजेपी में भूमिका क्या होगी, यह सवाल पूछा जा रहा है. जब यह सवाल प्रदेश प्रभारी अरूण सिंह से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि बाकी सभी वरिष्ठ नेता हैं प्रचार करेंगे.’

प्रभारी अरूण सिंह के इस बयान के बाद राजस्थान बीजेपी में वसुंधरा राजे की भूमिका को लेकर उठ रहे सवालों ने नई बहस छेड़ दी है. अरूण सिंह के इस बयान को वसुंधरा राजे के लिए नेगेटिव रूप से देखा जा रहा है. हालांकि इससे पहले 2018 के विधानसभा चुनावों में भी वसुंधरा राजे संकल्प समिति की हिस्सा नहीं थी.

बीजेपी चुनाव प्रबंधन समिति और संकल्प पत्र समिति

ओपिनियन पोल में वसुंधरा टॉप लीडर

जुलाई महीने में एबीपी सी वोटर ने राजस्थान को लेकर चुनाव से पहले बड़ा ओपिनियन पोल करवाया. जिसमें लोगों से प्रदेश में सीएम फेस को लेकर सवाल पूछा गया था. इस दौरान लोगों ने बीजेपी-कांग्रेस से नेताओं के नाम बताए. इस पोल में बीजेपी की ओर से सर्व में सामने आया कि लोग वसुंधरा राजे को सीएम के रूप में देखना चाहती है. सर्वे में 36 प्रतिशत लोगों ने ही वसुंधरा राजे के समर्थन में वोट किया था. जो बीजेपी नेताओं में सबसे अधिक पर था. जबकि 9 प्रतिशत लोगों ने गजेंद्र सिंह शेखावत, 8 प्रतिशत ने राजेंद्र राठौड़ और 7 फीसदी लोगों ने अर्जुन मेघवाल ने अपनी पसंद बताया था.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

कोर कमेटी की बैठक में भी शामिल नहीं हुई वसुंधरा

गुरुवार को बीजेपी ने दो समितियों की घोषणा की. इसके बाद शाम को प्रदेश बीजेपी की कोर कमेटी की बैठक हुई, इस बैठक में कांग्रेस सरकार के खिलाफ निकाली जाने वाली परिवर्तन यात्राओं को लेकर चर्चा की गई. साथ ही यात्रा के रूट पर भी चर्चा हुई. इसके अलावा चुनाव प्रबंधन और घोषणा पत्र समिति के कार्य पर मंथन किया गया. इस बैठक में प्रदेशाध्यक्ष सीपी जोशी, प्रदेश चुनाव प्रभारी प्रहलाद जोशी, ओम माथुर, प्रदेश प्रभारी अरूण सिंह, राजेंद्र राठौड़, सतीश पूनियां सहित कई नेता शामिल हुए. लेकिन इस मीटिंग में वसुंधरा राजे शामिल नहीं हुई.

प्रभारी अरूण सिंह बोले- पार्टी को जिताने का काम करेंगी राजे

समितियों की घोषणा के बाद जब मीडिया ने वसुंधरा की राजस्थान में क्या भूमिका होगी, पूछा तो प्रभारी अरुण सिंह ने गोलमोल जवाब दिया. उन्होंने कहा कि ‘बाकी सभी वरिष्ठ नेता हैं प्रचार करेंगे.’ हालांकि शाम को कोर कमेटी की मीटिंग के बाद फिर से वसुंधरा राजे को लेकर सवाल पूछा गया. जिस पर प्रभारी अरुण सिंह ने कहा कि वसुंधरा हमारी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं, दो बार की मुख्यमंत्री है वो पार्टी को जिताने के लिए पूरा काम करेंगी और पार्टी के लिए प्रचार करेंगी जो भी पार्टी उनको काम देगी वो करेंगी.

ADVERTISEMENT

कैंपेन कमेटी में वसुंधरा के नाम की चर्चा

राजनीतिक जानकारों का मामना है कि अभी पार्टी अन्य महत्वपूर्ण समितियों की घोषणा करेगी. कहा जा रहा है आने वाले दिनों में बीजेपी राज्य में अपनी के प्रचार-प्रसार समिति की घोषणा कर सकती है. जिसमें वसुंधरा राजे के नाम शामिल होने की चर्चाएं हैं. अब देखना होगा कि आने वाले दिनों में बीजेपी में वसुंधरा की क्या भूमिका रहेगी.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें: चुनाव प्रबंधन समिति के संयोजक नारायण पंचारिया का पीएम मोदी से खास रिश्ता, पार्टी ने दी बड़ी जिम्मेदारी

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT