एक मंच पर दिखे गुलाबचंद और वसुंधरा, इशारों-इशारों में पूर्व CM राजे ने विरोधियों पर साधा निशाना

राजस्थान तक

ADVERTISEMENT

पूर्व सीएम वसुंधरा राजे (Former CM Vasudhara Raje) का एक बयान तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें उन्होंने इशारों-इशारों में अपने विरोधियों पर जमकर निशाना साधा है.

social share
google news

पिछले कुछ समय से पूर्व सीएम वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) राजस्थान की राजनीति में सक्रिय नहीं दिखाई दे रही. जब से राजस्थान में नए मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा हुई तब से कहीं ना कहीं राजे सक्रिय राजनीति से गायब हो गईं. इस बीच कयासों का बाज़ार और ज्यादा गर्म रहा. हर किसी के मन में एक ही सवाल बरकरार है कि आख़िर महारानी का अगला कदम क्या होने वाला है? लेकिन अब वसुंधरा राजे उदयपुर (udaipur news) में नज़र आई और उन्होंने सुंदर सिंह भंडारी चैरिटेबल ट्रस्ट की ओर से आयोजित विशिष्ट जन सम्मान समारोह में हिस्सा लिया.

इस कार्यक्रम में पूर्व सीएम वसुंधरा राजे के साथ-साथ असम के राज्यपाल गुलाबचंद कटारिया (gulab chand katariya) भी उपस्थित दिखे. अपने भाषण में वसुंधरा राजे सुंदर सिंह भंडारी के बारे में बात करते-करते आज के दौर की राजनीति पर तंज कसने से खुद को रोक नहीं पाई. उन्होंने कहा कि आजकल जिस उंगली का सहारा लेकर लोग ऊपर चढ़ते हैं, उसी को मौका मिलने पर काट देते हैं.

 

 

"मां ने बचपन से ही संघ के संस्कार दिए हैं''

पूर्व सीएम राजे ने कहा कि उनकी माता विजय राजे सिंधिया ने मध्यप्रदेश में 1967 में देश में पहली बार जनसंघ की सरकार बनाई थी और गोविंद नारायण सिंह को मुख्यमंत्री बनाया. तब भंडारी जी ने पत्र लिख कर खुशी जताई थी. मां ने बचपन से ही हमें संघ के संस्कार दिए हैं. दरअसल, यह कार्यक्रम जनसंघ के संस्थापक सदस्य रहे सुंदर सिंह भंडारी की पुण्यतिथि और संस्थापक डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस के अवसर पर आयोजित किया गया.

कटारिया ने RSS कार्यकर्ता को दिया धक्का

उदयपुर में आयोजित इस कार्यक्रम के दौरान जनसंघ से जुड़े बुजुर्ग विजय लाल सुवालका मंच पर पहुंच गए और कहने लगे कि वसुंधरा राजे को माला पहनानी है. इस दौरान उनको कार्यक्रम के चलते मंच से नीचे जाने को कहा. ट्रस्टी कुंतीलाल जैन ने उनको हटाया लेकिन वे नहीं माने और आगे बढ़ गए. बाद में राजे के पास बैठे कटारिया कुर्सी से उठे और उन्हें हाथ से पकड़ कर आगे नीचे की तरफ ले जाने लगे. सुवालका नाराज हो गए और कहा कि धक्का क्यों दे रहे हो. बाद में पुलिस और राज्यपाल के सुरक्षाकर्मी उन्हें नीचे लेकर गए.

ADVERTISEMENT

यह भी देखे...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT