चुनाव के परिणाम के बाद मोबाइल में मोर की आवाज सुनाने लगे डोटासरा, इस खास अंदाज में बीजेपी पर कसा तंज

राजस्थान तक

ADVERTISEMENT

राजस्थान में लोकसभा सीटों का परिणाम कांग्रेस को मजबूती देने वाला रहा. विधानसभा चुनाव-2023 में मिली हार के बाद कांग्रेस गठबंधन को कुल 11 सीटें मिली हैं. जिसके बाद कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा की काफी चर्चा भी हो रही है. उन्होंने कांग्रेस (Congress) और इण्डिया गठबंधन के प्रत्याशियों की विजय को लेकर सभी प्रदेशवासियों का आभार व्यक्त किया.

social share
google news

राजस्थान में लोकसभा सीटों का परिणाम कांग्रेस को मजबूती देने वाला रहा. विधानसभा चुनाव-2023 में मिली हार के बाद कांग्रेस गठबंधन को कुल 11 सीटें मिली हैं. जिसके बाद कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा की काफी चर्चा भी हो रही है. उन्होंने कांग्रेस (Congress) और इण्डिया गठबंधन के प्रत्याशियों की विजय को लेकर सभी प्रदेशवासियों का आभार व्यक्त किया. कांग्रेस छोड़कर गए नेताओं की घर वापसी के सवाल पर डोटासरा ने कहा कि जो छोड़कर गए हैं, उनके लिए अब पार्टी में कोई जगह नहीं है. उन्हें वापस क्यों लिया जाए. जिन्होंने पार्टी के लिए कठिन समय में मेहनत की है, उन्हें आगे बढ़ाया जाएगा और पार्टी के लिए काम किया. अब मलाई भी उन्हें ही मिलेगी.

इस दौरान डोटासरा का मोरिया बोल गया वाला बयान भी चर्चा में रहा. पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी का यह प्रदर्शन किसी एक व्यक्ति की मेहनत का परिणाम नहीं है. इसके लिए सभी ने एकजुटता के साथ मेहनत की है. आज सच में मोरिया बोल गए हैं. उन्होंने बीजेपी पर मजाकिया अंदाज में तंज कसा और मोबाइल में मोर की आवाज सुनाकर कहा कि राजस्थान में कई सीटों पर बीजेपी प्रत्याशियों के मोरिया बोल गए हैं.

डोटासरा ने कहा "प्रदेश के युवाओं ने केन्द्र सरकार द्वारा रोजगार नहीं देने, अग्निवीर जैसी योजना थोपकर युवाओं के हितों पर कुठाराघात करने के विरोध में और कांग्रेस के युवा न्याय के तहत् पहली नौकरी पक्की की गारंटी के समर्थन में कांग्रेस के पक्ष में मतदान किया है. केन्द्र सरकार की गलत नीतियों के कारण देश में बढ़ती महंगाई के विरूद्ध और कांग्रेस की लोक कल्याणकारी महालक्ष्मी योजनाओं के पक्ष में महिलाओं ने कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशियों के लिए बढ़-चढ़कर मतदान किया."

"कई सीटों पर रहा नजदीकी मुकाबला"

उन्होंने कहा कि जयपुर ग्रामीण लोकसभा क्षेत्र में बेहद नजदीकी मुकाबला रहा. कोटा, जोधपुर और अलवर में बीजेपी सरकार के केन्द्रीय मंत्री और लोकसभा अध्यक्ष बेहद नजदीकी मुकाबले में जीते हैं. बाड़मेर में भाजपा सरकार के केन्द्रीय मंत्री कांग्रेस प्रत्याशी से हार गए. प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि वर्तमान बीजेपी सरकार ने उन जन कल्याणकारी योजनाओं को बंद कर दिया. जिसका खामियाजा बीजेपी को लोकसभा चुनाव में भुगतना पड़ा है."

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

यह भी देखे...

 

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT