कांग्रेस उम्मीदवारों की 7वीं लिस्ट जारी, महेश जोशी का टिकट कटने के बाद धारीवाल को मिला ये मैसेज

राजस्थान तक

ADVERTISEMENT

Rajasthantak
social share
google news

Shanti dharilwal will contest election from kota north: राजस्थान विधानसभा चुनाव (rajasthan election 2023) के लिए कांग्रेस ने अपने 21 प्रत्याशियों की लिस्ट जारी की है. इस लिस्ट में मंत्री मंत्री शांति धारीवाल (shanti dhariwal) को बड़ी राहत मिली है. पहले धर्मेंद्र राठौड़ को टिकट नहीं मिलना और फिर 4 नवंबर को आई सूची में हवामहल से विधायक और मंत्री महेश जोशी की जगह आरआर तिवाड़ी को टिकट मिलने के बाद निगाहें धारीवाल पर थी. कयास लगाए जा रहे थे कि कोटा उत्तर से धारीवाल का टिकट काटकर किसी अन्य चेहरे को मौका मिल सकता है. लेकिन लंबे इंतजार के बाद वह टिकट पाने में कायमाब रहे.

बता दें कि 18 अक्टूबर को इस बैठक में इन तीनों नेताओं को लेकर पार्टी हाईकमान ने चर्चा भी की थी. जब इन नेताओं के टिकट पर चर्चा हुई, तब मुख्यमंत्री ने इस पर चुप्पी साधे रखी. इसी के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के इन खास 3 नेताओं के टिकट कटने की अटकलें शुरू हो गई थी.

हालांकि गहलोत ने मौजूदा विधायकों को बनाए रखने पर जोर दिया, क्योंकि उनका कहना है कि इन विधायकों ने पार्टी के लिए कड़ी मेहनत की है. खास बात यह भी थी कि कांग्रेस नेता धीरज गुर्जर के टिकट पर भी संकट के बादल दिख रहे थे. लेकिन उन्हें भी पिछले हफ्ते टिकट दे दिया गया. वहीं, महेश जोशी और धर्मेंद्र राठौड़ को टिकट नहीं मिला.

महेश जोशी का कट गया टिकट

बीती रात कांग्रेस ने अपने 23 उम्मीदवारों की घोषणा की. इस सूची में 12 नए नाम शामिल हैं. वहीं एक मंत्री, एक मौजूदा विधायक सहित 11 नेताओं के टिकट काट दिए गए. इस सूची में हवामहल से मंत्री महेश जोशी को टिकट नहीं दिया गया. हालांकि इस बार उनकी टिकट कटने की संभावना जताई जा रही थी. वहीं पहले बीकानेर और बाद में भीलवाड़ा से टिकट की मांग कर रहे ओएसडी लोकेश शर्मा को भी टिकट नहीं मिला. सीईसी बैठक से एक दिन पहले सीएम आवास के बाहर उनके समर्थकों ने प्रदर्शन भी किया था. जिसके बाद उनकी सीएम से मुलाकात हुई तो उन्होंने लोकेश शर्मा को भीलवाड़ा से टिकट देने की मांग की थी.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

आलाकमान क्यों था इन नेताओं से नाराज

गौरतलब है कि जयपुर में 25 सितंबर को पार्टी के विधायक दल की बैठक बुलाई गई थी. बैठक के लिए पार्टी ने राजस्थान प्रभारी अजय माकन और मल्लिकार्जुन खड़गे को जयपुर भेजा गया तो गहलोत समर्थक विधायकों ने बगावत बुलंद कर दी और बैठक से पहले अपनी अलग मीटिंग की. मंत्री शांति धारीवाल के घर पर विधायक जुटे. इस बैठक के बाद गहलोत खेमे के विधायक विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी के घर पहुंचे और करीब 80 से ज्यादा विधायकों ने पायलट के सीएम बनाए जाने के विरोध में अपना इस्तीफा सौंप दिया था.

यहां देखिए कांग्रेस की 7वीं लिस्ट 

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT