निर्मला सीतामरण ने कोटा के किसानों-युवाओं को दी सौगात, लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने की तारीफ

ADVERTISEMENT

Rajasthantak
social share
google news

Rajasthan News: कोटा के दशहरा स्टेडियम में क्रेडिट आउटरीच कार्यक्रम के दौरान विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संबोधित किया. उन्होंने कहा कि स्पीकर किसी भी पार्टी लाइन से ऊपर होते हैं. वह सबका ख्याल रखते हैं. पिछले 3-4 साल में हम देख रहे हैं कि बिरला स्पीकर बनने के बाद सदन को सफलतापूर्वक चला रहे हैं. ओम बिरला अच्छा काम कर रहे हैं और यह सभी के लिए प्रेरणादायी है. मैं इसे विस्तार से क्यों बता रही हूँ? क्योंकि जब कोई सांसद स्पीकर बनता है तो उसे अपने संसदीय क्षेत्र के लिए कम समय मिलता है. लेकिन बिरला बहुत समय देते हैं और उन्हें कोटा-बूंदी की परवाह है.

वित्त मंत्री ने कहा कि मैंने बैंक अधिकारी से कहा कि कोटा-बूंदी की हर पंचायत में पहुंचकर उन्हें हर योजना का हर योजना का लाभ दिलाएं. किसान क्रेडिट कार्ड का लाभ पशुपालकों को मिल रहा है. पशुपालन से जुड़े लोग भी किसान हैं. कोटा में ही पीएम स्वनिधि के माध्यम से 2363 लोगों को ऋण मिल रहा है. वित्त मंत्री ने कहा कि इसके लिए कोई कागज, सोना या जमीन गिरवी रखने की जरूरत नहीं है. वहीं, मुद्रा योजना से 3700 महिला-पुरुषों और ग्रामीण क्षेत्रों के 20 युवा उद्यमियों को स्टार्ट अप योजना के माध्यम से ऋण मिल रहा है.

इस दौरान लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने भी केंद्रीय वित्त मंत्री की जमकर तारीफ की. उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री का समय बहुत कीमती है, क्योंकि वह अगले वित्तीय वर्ष के लिए केंद्रीय बजट बनाने में व्यस्त हैं. वह आम रेहड़ी और पटरी वालों के दर्द को समझती हैं. इसलिए उन्होंने अपना कीमती समय दिया. यह दर्द प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी समझते हैं.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

बिरला बोले- लोन देने के लिए आपके दरवाजे आएगा बैंक
लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि चाहे चाय वाला हो, नमकीन वाला हो, पीएम निधि योजना के माध्यम से आत्म निर्भर बन रहे हैं. मुद्रा योजना और स्टार्ट अप योजनाओं के माध्यम से युवा उद्यमियों को बढ़ावा दिया जा रहा हैं. स्वयं सहायता समूहों में काम करने वाली महिलाएं को मजबूती दी गई. उन्होंने कहा कि जब मैं शहर के रेहड़ी-पटरी वालों से मिला और उन्हें बताया कि बैंक आपके दरवाजे पर आ गया है, उन्हें विश्वास नहीं हुआ. इन वेंडरों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए बैंक अधिकारियों ने उन्हें कर्ज देने की पेशकश की. अब गरीब लोग योजनाओं के माध्यम से अपना स्टॉल खरीद सकते हैं.

लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि मुद्रा बैंक के माध्यम से युवा उद्यमी होंगे और मुद्रा बैंक के माध्यम से रोजगार देंगे. यह हमारे वित्त मंत्री और प्रधानमंत्री का दृष्टिकोण है. वित्त मंत्री ने मुझसे कहा कि हम बूंदी-कोटा, राज्य और देश के गरीबों को आर्थिक रूप से मजबूत करना चाहते हैं. किसानों और गरीबों की वजह से भारत आर्थिक विकास में अग्रणी होगा. हम उन्हें मजबूत बनाएंगे.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें: राजस्थान में ठंड का कहर जारी, चूरू में तापमान पहुंचा माइनस 0.5 डिग्री

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT