‘3 महीने में RPSC की गंदगी साफ कर दूंगा’ IPS पंकज चौधरी ने बढ़ाई CM गहलोत की टेंशन!

ADVERTISEMENT

'3 महीने में RPSC की सारी गंदगी साफ कर दूंगा' IPS पंकज चौधरी के बयान ने बढ़ाई CM गहलोत की टेंशन!
'3 महीने में RPSC की सारी गंदगी साफ कर दूंगा' IPS पंकज चौधरी के बयान ने बढ़ाई CM गहलोत की टेंशन!
social share
google news

IPS Pankaj Chowdhary on RPSC: राजस्थान (Rajasthan News) के IPS ऑफिसर पंकज चौधरी के एक बयान ने प्रदेश सरकार की टेंशन बढ़ा दी है. उन्होंने ट्वीट कर अशोक गहलोत सरकार से मांग की है कि उन्हें मात्र 3 महीने के लिए आरपीएससी (RPSC) का मुखिया बना दिया जाए तो वह सारी गंदगी साफ कर देंगे. गौरतलब है कि आरपीएससी द्वारा आयोजित कई भर्ती परीक्षाओं के पेपर लीक हो चुके हैं जिससे प्रदेश के युवा काफी निराश हैं. पेपर लीक के मामलों में आरपीएससी के कई सदस्य भी आरोपी हैं.

पंकज चौधरी ने ट्विटर पर लिखा, “जख्मी जादूगर जी, RPSC के सदस्य जेल जाने से लेकर प्रायः हर कार्य में लिप्त व शरीक है. प्रदेश के लाखों युवा दिग्भ्रमित है. एक सुझाव है मात्र तीन माह RPSC का दायित्व सौंपे प्रदेश के समस्त युवा संतुष्ट होंगे. RPSC के अंदर की तमाम गंदगी साफ हो जाएगी.”

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

आईपीएस अधिकारी ने यह भी लिखा- “जख्मी जादूगर जी, आपके प्रिय तथाकथित रजिस्टर्ड राजनीतिक दलाल नेता व एक पक्षीय मीडिया बंधु की टांग हाल में चोटिल हुई पर ऐसे हजारों परजीवी दलाल व स्वार्थी पूर्ण संरक्षण में प्रदेशभर में हर विभाग, विंग में सक्रिय हैं. इनकी भी टांग जल्द टूटने का राजस्थान के यूथ को बेसब्री से इंतजार है.”

ADVERTISEMENT

जानें कौन हैं IPS पंकज चौधरी

2009 बैच के आईपीएस अधिकारी पंकज चौधरी अपनी तेज तर्रार छवि के लिए जाने जाते हैं. उन्हें राज्य सरकार की सिफारिश पर केन्द्र सरकार ने फरवरी 2019 में बर्खास्त कर दिया था. आरोप था कि उन्होंने पहली पत्नी को तलाक दिए बिना दूसरी शादी कर ली थी. बर्खास्तगी के बाद आईपीएस पंकज केन्द्रीय प्रशासनिक अधिकरण (कैट) में चले गए. वहां से निर्दोष साबित होने के बाद दिल्ली हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट से भी पक्ष में निर्णय आने पर पंकज चौधरी ने 2021 में वापस सर्विस जॉइन कर ली.

ADVERTISEMENT

बाड़मेर-जैसलमेर लोकसभा सीट से जताई थी दावेदारी

बर्खास्तगी के बाद आईपीएस पंकज चौधरी ने राजनीति में भी अपना भविष्य तलाशना चाहा. उन्होंने साल 2019 के लोकसभा चुनाव में बसपा से बाड़मेर-जैसलमेर लोकसभा सीट के लिए नामांकन दाखिल किया था जिसे खारिज कर दिया गया. नामांकन में सर्विस से बर्खास्तगी के दस्तावेज पेश नहीं करने पर उन्हें अयोग्य करार दे दिया गया.

पहली पोस्टिंग के दौरान खोली गाजी फकीर की हिस्ट्रीशीट

पंकज चौधरी को 2013 में जैसलमेर एसपी के रूप में पहली पोस्टिंग मिली. इस दौरान उन्होंने गाजी फकीर की हिस्ट्रीशीट खोल दी. गाजी फकीर मुस्लिम समुदाय के धर्मगुरु और राजस्थान सरकार के मंत्री सालेह मोहम्मद के पिता थे. उनकी इस कार्रवाई के बाद उन्हें बाड़मेर एसपी पद से हटा दिया गया. हालांकि उनके इस ट्रांसफर पर लोगों ने काफी विरोध किया था.

यह भी पढ़ें: कलेक्टर टीना डाबी की बहन IAS रिया डाबी ने इस IPS ऑफिसर से रचाई शादी, सामने आई पूरी जानकारी

    ADVERTISEMENT