जयपुर: सरकार से खफा आंगनबाड़ी कर्मचारियों ने राजधानी में भरी हुंकार, चुनावों में परिणाम भुगतने की चेतावनी

ADVERTISEMENT

Rajasthantak
social share
google news

Jaipur news: राजस्थान में वेतन बढ़ाने की मांग को लेकर आंगनबाड़ी कर्मचारियों ने हुंकार भरी है. बताया कि उनको सरकार बहुत कम सैलरी का भुगतान कर रही कर रही है, जबकि अन्य कई प्रदेशों में इनकी सैलरी यहां से 3 से 4 गुनी ज्यादा है. ऐसे में उनको घर चलाना, बच्चों को पढ़ाना भी मुश्किल हो रहा है. इससे आक्रोशित आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, सहायिका, आशा और ग्राम साथिनों ने जयपुर में हुंकार भरकर राज्य सरकार को अपनी मांगों को लेकर चेताया.

दरअसल राज्य सरकार की हर एक योजनाओं को गांव-गांव, ढाणी-ढाणी आमजन तक पहुंचाने वाली आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सरकार से खफा है. उनका आरोप है कि कांग्रेस सरकार के 4 साल बीत चुके हैं और आशाएं सालों से संघर्ष कर रही हैं, लेकिन फिर भी सरकार सोई हुई है. आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता, सहायिका, आशा सहयोगिनी व ग्राम साथिनों को सरकारी कर्मचारी घोषित करने, जब तक सरकारी कर्मचारी घोषित नहीं करें तब तक न्यूनतम 18000 रुपए वेतन देने, सेवा निवृत्ति पर 5 लाख रुपए ग्रेच्युटी और 5000 रुपए पेंशन प्रतिमाह की मांग की जा रही है. लेकिन सरकार द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है. जिसके चलते आंगनवाड़ी कर्मियों में भारी आक्रोश है.

ऐसे में हताश निराश महिला कर्मचारियों ने कहा कि अभी तो राज्य सरकार को जगाने आएं हैं और सरकार यदि नींद से नहीं जागी तो हम बहनें सरकार का ईंट से ईंट बजाने का माद्दा भी रखती हैं. राजस्थान के सभी जिलों से हजारों की संख्या में आई महिला कर्मचारियों ने जयपुर में शहीद स्मारक से लेकर सिविल लाइन फाटक तक हुंकार रैली निकाली. जहां पर महिला कर्मचारियों का सैलाब दिखाई दे रहा था. अपनी मांगों को लेकर सरकार को चेतावनी दी गई की मांगों पर सरकार गंभीर नहीं हुई तो आने वाले चुनावों में इसका परिणाम भुगतना पड़ सकता है.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

यह भी पढ़ें: राजस्थान में पेपर लीक के सवाल पर सरकार की तारीफ करने लगे शिक्षा मंत्री कल्ला! देखें

    ADVERTISEMENT