Rajasthan: राम मंदिर प्राण-प्रतिष्ठा के दिन हुई 100 से अधिक डिलीवरी, बच्चों के नाम रखें अनोखे, NGO ने बांटे ये उपहार 

ADVERTISEMENT

Rajasthan: राम मंदिर प्राण-प्रतिष्ठा के दिन हुई 100 से अधिक डिलीवरी, बच्चों के नाम रखें अनोखे, NGO ने बांटे ये उपहार 
Rajasthan: राम मंदिर प्राण-प्रतिष्ठा के दिन हुई 100 से अधिक डिलीवरी, बच्चों के नाम रखें अनोखे, NGO ने बांटे ये उपहार 
social share
google news

Rajasthan: 22 जनवरी को अयोध्या में रामलला प्राण प्रतिष्ठा का भव्य कार्यक्रम हुआ. इस अवसर पर कोटा जिले के जेके लोन हॉस्पिटल में कई बच्चों ने जन्म लिया. कोटा में रामलला प्राण प्रतिष्ठा के महोत्सव के शुभ अवसर पर जन्म लेने वाले बच्चों के परिजनों की खुशी का ठिकाना नही रहा.

कोटा संभाग के सबसे बड़े शिशु अस्पताल जेके लॉन सहित अन्य अस्पतालों में परिजनों ने पहले ही रामलला प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव के दिन ही सिजेरियन करने की डिमांड की थी. जिले में श्री रामलला प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव के दिन कोटा जिले में 100 से अधिक शिशुओं ने जन्म लिया. संभाग के सबसे बड़े मातृ शिशु जेके लोन अस्पताल में जन्म लेने वाले 38 शिशुओं के परिजनों को अस्पताल स्टाफ की तरफ से बेबी किट, कंबल सहित अन्य गिफ्ट वितरण किया गया और उनके परिजनों को शुभकामनाएं दी,

सामाजिक संस्था ने दिए गिफ्ट

कोटा जिले की रामगंजमंडी में जन्म लेने वाले शिशुओं के परिजनों को एक सामाजिक संस्था की तरफ से 5100-5100 की राशि भेंट की गई. जेके लोन अस्पताल में रामलला प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव के दिन 38 बच्चों ने जन्म लिया. अजब सहयोग यह भी है कि 38 में से 19 बालक, 19 बालिकाए पैदा हुए हैं, जबकि 19 प्रसूताओ की नॉर्मल डिलीवरी तो 19 प्रसुताओं के सिजेरियन हुए.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

बेटे का नाम राम रखा

वहीं एक और निजी अस्पताल में एक महिला ने बेटे को जन्म दिया तो उसका नाम राम रखा जबकि प्रेम नगर निवासी एक महिला ने बेटी को जन्म दिया तो उसका नाम सिया रखा. जिले में एक ही दिन में शुभ दिन व शुभ मुहूर्त में जन्म लेने वाले 100 बच्चों के परिवारों में दोहरी खुशी देखी जा रही है. परिवारजनों का कहना है कि बरसों इंतजार के बाद रामलला प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव का समय आया है. इस दिन पूरे देश में खुशियां मनाई जा रही है और ऐसे में उनके घर में बच्चे का जन्म होना उनके लिए दोहरी खुशी है.

    ADVERTISEMENT