राजस्थान में बिजली संकट दूर करने के लिए भजनलाल सरकार के मंत्री पहुंच गए महाराष्ट्र, जानें वजह

ADVERTISEMENT

Rajasthantak
social share
google news

Rajasthan news: राजस्थान में बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए बीजेपी सरकार (BJP govt) बड़ा कदम उठाने जा रही है. बिजली संकट दूर करने सौर ऊर्जा उत्पादन को बढ़ावा देकर किसानों को दिन में बिजली आपूर्ति करने के लिए प्रदेश के ऊर्जा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हीरालाल नागर ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से मुम्बई में मुलाकात की. इस मुलाकात के दौरान महाराष्ट्र सरकार की प्रमुख शासन सचिव ऊर्जा आभा शुक्ला भी मौजूद थी. बता दें कि मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा (bhajanlal sharma) और ऊर्जा मंत्री नागर ने बीते दिनों दिल्ली में केन्द्रीय नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री आर. के. सिंह से भी मुलाकात की थी. इस दौरान उन्हें ऊर्जा के पारंपरिक स्रोतों पर निर्भरता को कम करने की दिशा में महाराष्ट्र सरकार के मॉडल को अपनाने का सुझाव दिया था.

इस मुलाकात के बाद जानकारी सामने आई है कि विद्युत वितरण तंत्र में सुधार की दिशा में राजस्थान अब महाराष्ट्र के मॉडल को अपनाएगा. इस संबंध में ऊर्जा विभाग के अधिकारियों का दल जल्द ही महाराष्ट्र का दौरा कर वहां की सरकार की ओर से किए गए नीतिगत बदलावों और इनके माध्यम से आए परिणामों का अध्ययन करेगा. साथ ही प्रदेश की भौगोलिक परिस्थितियों के हिसाब से इन्हें यहां लागू किया जाएगा.

महाराष्ट्र सीएम ने दिए ये सुझाव

मुलाकात के दौरान शिंदे ने बताया कि राज्य में ग्रीन एनर्जी को बढ़ावा देने के उद्देश्य से अब तक परंपरागत ऊर्जा के स्त्रोतों से चल रहे सिंचाई पंपों को बड़ी संख्या में सोलर पंपों में बदला जा रहा है. सौर ऊर्जा संचालित पंपों का उपयोग बढ़ाने की महाराष्ट्र सरकार की इस मुहिम से किसानों को सिंचाई कार्य के लिए दिन में भी बिजली मिल रही है. इससे प्रदूषण को कम करने में भी मदद मिली है. इतना ही नहीं, किसान सोलर पैनल के माध्यम से उत्पादित अतिरिक्त बिजली को सरकारी या निजी बिजली कंपनी को बेचकर लाभ भी कमा रहे हैं. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र कृषि को सौर ऊर्जा में शिफ्ट करने की पहल करने वाला देश का अग्रणी राज्य है.

ऐसे दूर हो सकती है राजस्थान में बिजली की समस्या

महाराष्ट्र सरकार की ओर से प्रदेश के ऊर्जा मंत्री को बताया गया कि राज्य में सोलर एनर्जी के क्षेत्र में निवेशकों (बिडर) के लिए सरकारी भूमि की उपलब्धता को सुनिश्चित किया गया है. पीएम कुसुम योजना के माध्यम से महाराष्ट्र में सिवायचक, बंजर, सरकारी कार्यालयों तथा कृषि भूमि का एक लैंड बैंक तैयार किया गया है. इससे सौर ऊर्जा प्रोजेक्ट के लिए भूमि की उपलब्धता पहले से ही सुनिश्चित होने, अनापत्तियां लेने में तथा ऑनलाइन टेंडर की प्रक्रिया को सुगम बनाने जैसे कई नीतिगत बदलाव किए गए हैं. इनका नतीजा यह रहा कि वहां सौर ऊर्जा के 4 से 5 हजार मेगावाट के नए प्रोजेक्टों के लिए कम दरों पर बोली प्राप्त करने में सफलता मिलने की उम्मीद है.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री कुसुम योजना के क्रियान्वयन में महाराष्ट्र देश के अग्रणी राज्यों में है. केंद्रीय नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय ने 31 अक्टूबर 2023 तक राज्यों में 9 लाख 46 हजार से अधिक सौर ऊर्जा पंप लगाने को मंजूरी दी थी. जिसमें से 2 लाख 72 हजार 916 से अधिक सौर ऊर्जा पंप लगाए जा चुके हैं। इनमें से 71 हजार 958 सौर पंप अकेले महाराष्ट्र में लगाए गए हैं.

सरकार बदलने के बाद अब राजस्थान के स्कूलों में बदला जाएगा पाठ्यक्रम! शिक्षा मंत्री का बड़ा बयान

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT