फर्जी CBI अफसर बनकर दोस्तों के साथ उड़ा रहा था मौज, खुल गई पोल और पहुंच गया जेल

ADVERTISEMENT

Rajasthantak
social share
google news

Fake CBI officer arrested: एक युवा की पुलिस अफसर की चाहत, उसके लिए लंबे समय तक कड़ी मेहनत और फिर जब कायमाब नहीं हुए तो फर्जी अफसर बनकर धौंस दिखाने लगे. लेकिन अब इस पूरे मामला का भंडाफोड़ हो हो गया है. ये पूरा मामला है उदयपुर (udaipur) का. जहां आरोपी समेत उसके साथियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. दरअसल, यह मामला शहर के हाथीपोल थाना का है. जहां पुलिस ने फर्जी सीबीआई अधिकारी (Fake CBI officer) बनकर फर्जी आईडी से सर्किट हाउस में रुकने वाले आरोपी और उसके 4 साथियों को गिरफ्तार किया है.

पुलिस को सूचना मिली कि संदिग्ध सीबीआई अफसर सर्किट हाउस में रुके हुए हैं. इस पर टीम मौके पर पहुंची और जानकारी जुटाई तो सामने आया कि एक सीबीआई आईपीएस अधिकारी अपने रिश्तेदारों के साथ सर्किट हाउस में रुका हुआ है.

पुलिस को भी गुमराह करने लगा आरोपी

पुलिस ने पूछताछ की तो उनमें से अलवर निवासी सुनील कुमार ने खुद को बांद्रा मुम्बई में पदस्थापित सीबीआई में आईपीएस अफसर होना बताया. आरोपी ने अपना सीबीआई का पहचान पत्र भी दिखाया, लेकिन जब पुलिस ने सीबीआई के उच्च अधिकारियों से बात की तो पता चला कि सीबीआई तो आईडी कार्ड जारी ही नहीं करती है. जाहिर तौर पर सुनील का पहचान पत्र फर्जी था. जिस पर सर्किट हाउस में फर्जी दस्तावेज प्रस्तुत कर 211 कमरे में रुके अन्य तीनों व्यक्तियों से पूछताछ की तो सभी ने अलग-अलग बातें बताई.

4 बार यूपीएससी परीक्षा दे चुका है आरोपी

पूछताछ में आरोपी ने बताया कि उसने तीन से चार बार UPSC की परीक्षा दी, लेकिन चयन नहीं हुआ. ऐसे में अपने आसपास के लोगो मे रुतबा दिखाने के लिए दिल्ली जाकर भी कुछ समय गुजारा और फिर सीबीआई का फर्जी आईपीएस अधिकारी बनकर गांव लौटा. आरोपी के पास से बानसूर गांव का एक इंस्पेक्टर का फर्जी कार्ड भी मिला है. पुलिस ने सुनील कुमार, इंद्राज सैनी, अमित कुमार चौहान और सत्यनारायण को दस्तयाब किया है.

यह भी पढ़ें...

जयपुर: पिता के कुकर्म के चलते 11 साल की बेटी हुई प्रेग्नेंट, 1 माह बाद होगा बच्चा, कोर्ट का गर्भपात से इनकार

    ADVERTISEMENT