भारत जोड़ो यात्रा के सवाल पर सीएम गहलोत बोले- पूरे देश में मजाक बन गया केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री का पत्र

ADVERTISEMENT

Rajasthantak
social share
google news

Rajasthan News: भारत जोड़ो यात्रा रोकने की केंद्रीय मंत्री की अपील के बाद सियासत तेज हो गई है. सीएम अशोक गहलोत ने इस पर तंज कसते हुए कहा कि केंद्रीय मंत्री के पत्र का पूरे देश में मजाक बन गया है. गहलोत ने कहा कि उन्हें पता होना चाहिए कि 20 दिसंबर को राजस्थान में यात्रा खत्म हो रही है और उसी दिन 20 तारीख को ही पत्र लिख रहे है. केंद्र सरकार की एसओपी में मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग की पालना की बात नहीं है. पहले तो एसओपी जारी करते फिर पत्र लिखते.

गहलोत ने बीजेपी पर वार करते हुए कहा कि यात्रा को राजस्थान में शानदार रिस्पोंस मिला. जिसके चलते यात्रा रोकने की बात हो रही है. मैंने पहले भी दिल्ली में कहा था कि यह सरकार हिल गई है. अब मुझे लगता है कि मेरा अंदाजा ठीक था. कोरोना के बढ़ते मामलों पर कहा कि इस मामले में स्टडी होते रहनी चाहिए. पिछली बार केंद्र सरकार की देरी होने का नतीजा देश ने भुगता है. अब जो भी अपडेट हो, देशवासियों से अवगत करना चाहिए. जीनोम सिक्वेंसिंग को लेकर भी गंभीरता रखी जानी चाहिए.

सीएम ने कहा कि राहुल गांधी ने पूरे देश के लिए राजस्थान को मॉडल बताया. हमारी योजनाएं सफलता की तरफ बढ़ रहे है. गांव-गांव में लोग चिरंजीवी योजना की तारीफ कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि मंत्री-एमएलए हर 15 दिन में जनसंपर्क पर जाएंगे. राहुल गांधी की इस बात को तमाम नेता-कार्यकर्ताओं को समझ लेना चाहिए. हमें इस बात को समझना चाहिए कि जो जनाधार है उस तरफ लौटना चाहिए. इस संबंध में प्रदेश कांग्रेस कमेटी जल्द प्रस्ताव पास करेगी उसे लागू करने पर सोचा जाएगा.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

यह भी पढ़ेंः सचिन पायलट को सीएम बनाने के लिए लोकसभा में उठी मांग! यूपी के सांसद ने किया सबको हैरान

सिलेंडर की कीमतों में सब्सिडी को लेकर कहा कि उज्जवला, बीपीएल या जिन पर महंगाई का ज्यादा भार है. उन्हें सिलेंडर की सब्सिडी दी जाएगी. जय सियाराम के नारे के सवाल पर उन्होंने कहा कि राहुल गांधीजी की यह बात बहुत महत्वपूर्ण है. उन्होंने कहा कि सीतामाता को क्यों भूल रहे हो? संघ में तो महिलाएं सदस्य ही नहीं होती. उनकी सोच ऐसी ही हैं. लेकिन राहुल गांधी बोलते हैं कि सीतामैया को मत भूलों. संघ सिर्फ नाम लेता है, लेकिन राम के आदर्शों पर चलते नहीं है. सीतामैया को ना भूले और जय सियाराम बोलें.

ADVERTISEMENT

 

ADVERTISEMENT

    ADVERTISEMENT