ना पायलट, ना गहलोत, अब इस नेता को कांग्रेस में मिलेगी बड़ी जिम्मेदारी? सोशल मीडिया पर होने लगा ट्रेंड

ADVERTISEMENT

Rajasthantak
social share
google news

Congress: प्रदेश सरकार में पूर्व मंत्री व कांग्रेस के युवा नेता के रूप में पहचान रखने वाले टीकाराम जूली (Tika Ram Jully) को कांग्रेस में क्या जल्द ही बड़ी जिम्मेदारी मिलने वाली है? दरअसल, कांग्रेस में नेता प्रतिपक्ष (Leader of opposition) तय होना है. उसमें बहुत कम समय बचा हुआ है. साथ में प्रदेश अध्यक्ष भी बदलने की तैयारी चल रही है. ऐसे में टीकाराम जूली का नाम सोशल मीडिया पर सबसे आगे ट्रेंड कर रहा है. लाखों लोग टीकाराम जूली को कांग्रेस में बड़ा पद मिलने की बात कह रहे हैं. हालांकि अभी तक कांग्रेस की तरफ से कोई अधिकारी घोषणा नहीं की गई है.

चुनाव हारने के बाद राजस्थान में कांग्रेस के पास तीन प्रमुख पद हैं. इसमें प्रदेश अध्यक्ष, नेता प्रतिपक्ष व सचेतक का पद है. इसमें सबसे पहले नेता प्रतिपक्ष की नियुक्ति होनी है. इसमें कुछ दिनों का समय बचा हुआ है. नेता प्रतिपक्ष के रूप में गोविंद डोटासरा का नाम सबसे आगे चल रहा है तो वहीं, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष भी बदलने की तैयारी कर रही है.

अगले पीसीसी चीफ होंगे जूली?

प्रदेश अध्यक्ष के रूप में पूर्व मंत्री टीकाराम जूली का नाम सबसे आगे चल रहा है. टीकाराम जूली अलवर ग्रामीण विधानसभा सीट से चुनाव जीते हैं. साथ ही टीकाराम जूली युवा नेता के साथ पार्टी के एससी चेहरे के रूप में भी पहचान रखते हैं. इसलिए प्रदेश अध्यक्ष के रूप में टीकाराम जूली मजबूत दावेदार बन रहे हैं, इसी के चलते सोशल मीडिया पर वह लगातार टीकाराम ट्रेंड कर रहे हैं. ट्वीटर पर हजारों लोग टीकाराम जूली को प्रदेश अध्यक्ष बनाने की बात कह रहे हैं और लगातार अपनी प्रतिक्रियाएं भी दे रहे हैं.

जितेंद्र सिंह के करीबी होने का मिलेगा फायदा!

टीकाराम जूली पूर्व केंद्रीय मंत्री पर राहुल गांधी के खास माने जाने वाले जितेंद्र सिंह के भी करीबी हैं. जितेंद्र सिंह के चलते ही टीकाराम जूली को गहलोत सरकार में मंत्री पद मिला. उसके बाद उन्हें कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया. इसलिए सोशल मीडिया पर टीकाराम जूली को कांग्रेस पार्टी में बड़ा पद मिलने की चर्चाएं भी तेज हो गई है. हालांकि कांग्रेस की तरफ से अभी तक कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है.

यह भी पढ़ें...

यह भी पढ़ेंः अफसर और मंत्रियों के बीच ना हो विवाद, इसके लिए सीएम भजनलाल ने दिया ये खास फॉर्मूला

    ADVERTISEMENT