जन आक्रोश रैली में दिखी भाजपा की गुटबाजी, सांसद के सामने विधायक से धक्क-मुक्की, जानें

ADVERTISEMENT

Rajasthantak
social share
google news

Bhilwara news: भाजपा की जन आक्रोश रैली में पार्टी की गुटबाजी सामने आई. भीलवाड़ा में रैली में शिरकत करने आए सांसद डॉ किरोड़ी लाल मीणा के स्वागत के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं खेमे बाजी का नजारा देखा गया. यहां जहाजपुर से भाजपा विधायक गोपीचंद मीणा के साथ धक्का-मुक्की हो गई. वहीं कार्यक्रम में भाजपा सांसद डॉ किरोड़ी लाल मीणा से ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष राम कुमार मीणा भी मिले. सोशल मीडिया पर विधायक गोपी चंद के साथ धक्का मुक्की का वीडियो भी सामने आया है.

दरअसल, जहाजपुर में भारतीय जनता पार्टी विधायक समर्थक और विरोधी गुट में बंटी हुई है. इसलिए सांसद किरोड़ी के स्वागत में आक्रोश और खेमे बाजी खुलकर सामने आई. भाजपा के कुछ लोग सांसद मीणा से अकेले में मिलकर विधायक गोपीचंद के कांग्रेस नेताओं से संपर्क की शिकायत करना चाहते थे. मगर विधायक गोपीचंद ने उन्हें रोका तो विवाद हो गया.

भारतीय जनता पार्टी की जन आक्रोश रैली का आयोजन था. लेकिन यहां विधायक गोपीचंद मीणा और विधानसभा चुनाव में भाजपा से टिकट के दावेदार भाजपा एससी मोर्चा के जिलाध्यक्ष महेंद्र मीणा के साथ पूर्व विधायक शिवजी राम मीणा के बेटे सतीश मीणा के बीच जोर आजमाइश का माहौल ज्यादा रहा. सभा खत्म होने के बाद सांसद किरोड़ लाल मीणा जहाजपुर में कार्यकर्ता पृथ्वीराज मीणा के घर मिलने पहुंचे. तब विधायक गोपीचंद मीणा उनके साथ थे, मगर गोपीचंद जब अंदर जाने लगे तो उन्हें बाहर ही रोका दिया और उनसे धक्का-मुक्की भी की गई. इस बात पर विधायक गोपीचंद की बहस भी हुई. वहीं सांसद किरोड़ी लाल से मिलने पहुंचे कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष राम कुमार मीणा भी चर्चा का विषय रहे.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

इस घटनाक्रम पर भाजपा विधायक गोपीचंद मीणा ने कहा कि यह सामान्य घटना है. राजनीति में ऐसा चलता रहता है. सभा समाप्ति के बाद डॉक्टर साहब पृथ्वीराज मास्टर के यहां चाय पीने गए थे. मास्टर पृथ्वीराज की पत्नी ने कहा था कि वे उनके क्षेत्र की रहने वाली है और उसी के बुलावे पर वहां गए थे. जहां डॉक्टर साहब ने मुझे आवाज लगाकर कहा एमएलए साहब अंदर आ जाओ. वहां कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष राम कुमार मीणा के अलावा दूसरे कांग्रेसी लोग भी थे. इस दौरान मुझे पृथ्वीराज मास्टर ने बाहर ही रुक जाने का कहा. तब तक कुछ देर में डॉक्टर साहब ही बाहर आ गए. यह मामला उछालकर मेरी छवि खराब करने की कोशिश की जा रही है.

यह भी पढ़ें: Rajasthan Assembly Election 2023: हनुमान बेनीवाल और हरीश चौधरी के बीच किस बात की लड़ाई? जानिए

ADVERTISEMENT

    ADVERTISEMENT