हाथ से हाथ जोड़ो अभियान पर मंथन में जुटी कांग्रेस, बैठक में हो सकते हैं कई अहम फैसले! जानें

ADVERTISEMENT

Rajasthantak
social share
google news

Rajasthan News: राजस्थान में भारत जोड़ो यात्रा की सफलता का दावा करने वाली कांग्रेस अब हाथ से हाथ जोड़ो अभियान पर मंथन में जुटी है. शनिवार भारत जोड़ो यात्रा दिल्ली पहुंचेगी. जिसका पूरा खाका पार्टी तैयार कर चुकी है. बैठक में पार्टी के सभी प्रदेश महासचिव, प्रदेश अध्यक्ष और वरिष्ठ नेताओं ने हिस्सा लिया. कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और महासचिव केसी वेणुगोपाल की मौजूदगी में बैठक हुई.

संभावना जताई जा रही है कि बैठक में कई अन्य मुद्दों पर भी चर्चा हुई. अगले साल 2023 में राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे अहम राज्यों में चुनाव है. जिसे लेकर भी पार्टी का फोकस है. वहीं, राजस्थान की सियासत के लिहाज से देखें तो बैठक कई मायनों में अहम है. खास इसलिए भी क्योंकि 25 सितंबर को बगावत के मामले में राजस्थान कांग्रेस के 3 अहम नेताओं पर फैसला आना बाकी है. जिसे लेकर कयास लगाए जा रहे हैं कि इस मामले में फैसला भी बैठक में हो सकता है. 

गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के ऐलान के बाद इस पद पर सबसे आगे गहलोत का नाम चल रहा था. बताया जा रहा था कि ये गांधी परिवार की पहली पसंद थे. इधर गहलोत का नाम अनाउंस होते ही राजस्थान में नेतृत्व परिवर्तन को लेकर चर्चाओं ने फिर जोर पकड़ लिया और पायलट को अगले मुख्यमंत्री के तौर पर लोग देखने लगे. इधर गहलोत खेमे ने इसे लेकर बगावत कर दी. जिसका नतीजा ये रहा कि 25 सितंबर को बुलाई गई विधायक दल की बैठक का गहलोत गुट के विधायकों ने बहिष्कार कर दिया.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

अनुशासनहीनता के मामले में कांग्रेस नेतृत्व को सुनवाई करनी है. हालांकि क्लीन चिट की भी खबरें आई. लेकिन कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने साफ किया कि अभी किसी भी तरह से क्लीन चिट नहीं दी गई है. ऐसी किसी भी खबर को खारिज करते हुए उन्होंने कहा कि इन नेताओं अनुशासनहीनता का मामला अभी डिस्प्लीनरी कमेटी के पास विचाराधीन है.

यह भी पढ़ेंः कांग्रेस में बगावत की पटकथा लिखने वाले गहलोत के इन 3 करीबी नेताओं पर फिर लटकी तलवार! जानें

ADVERTISEMENT

    ADVERTISEMENT