मेवाड़ के पूर्व राजपरिवार के सदस्य विश्वराज सिंह मेवाड़ की एंट्री के पीछे दीया कुमारी का क्या है गेम प्लान?

ADVERTISEMENT

राजस्थान में CM फेस के रूप में पिछड़ी दीया कुमारी, सर्वे ने बताया जनता की पहली पसंद कौन है?
राजस्थान में CM फेस के रूप में पिछड़ी दीया कुमारी, सर्वे ने बताया जनता की पहली पसंद कौन है?
social share
google news

Jaipur’s Former royal family member Diya kumari: मेवाड़ के पूर्व राजपरिवार के सदस्य विश्वराज सिंह मेवाड़ (vishvaraj singh mewar) नाथद्वारा से चुनाव लड़ेंगे. पिछले लंबे समय से अटकलें लगाई जा रही थीं कि मेवाड़ राज परिवार के सदस्य और महाराणा प्रताप के वंशज डॉ. लक्ष्यराजसिंह मेवाड़ (dr. lakshyraj singh mewar) बीजेपी में शामिल हो सकते हैं. लेकिन पार्टी में ज्वॉइनिंग विश्वराज सिंह को हुई. एक रिपोर्ट के मुताबिक इस पूरे प्लान को गोपनीय रखा गया. जबकि पूरी पटकथा 3 महीने पहले से लिखी जा रही थी. जब दिल्ली में उन्होंने सदस्यता ली तो प्रदेश प्रभारी अरूण सिंह, प्रदेश अध्यक्ष सीपी जोशी, केंद्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल मौजूद थे.

इसी दौरान मंच पर मौजूद राजसमंद सांसद और इस बार के विधानसभा चुनाव में विद्यानगर से भाजपा की प्रत्याशी दीया कुमारी की भूमिका अहम है. जिनके चलते मेवाड़ के पूर्व राजपरिवार की 27 साल बाद एक बार फिर से राजनीति में एंट्री हुई है. जहां अचानक विश्वराज सिंह मेवाड़ ने बीजेपी जॉइन कर सभी को चौंका दिया है. वहीं, कयास यह भी लग रहे हैं कि दीया कुमारी ने अब बड़ा दांव खेलने की कोशिश की है.

दरअसल, उदयपुर के पूर्व राजपरिवार की सियासत में एंट्री की यह कहानी नई नहीं है. विश्वराज सिंह के पिता महेन्द्र सिंह मेवाड़ भी सांसद रह चुके हैं. उन्होंने भी तीन बार चुनाव लड़ा था. जिसके बाद से पार्टी की निगाहें विश्वराज सिंह मेवाड़ थी. वो पिछले कुछ वर्षों से मुंबई ही रहे हैं. जबकि उनका परिवार उदयपुर के समोर बाग में रहता है. उन्हें बीजेपी में लाने वाले अहम भूमिका दिल्ली और राजस्थान के शीर्ष नेताओं की थी.

दीया कुमारी ने किया फोन और बनाई रणनीति!

जानकारी के मुताबिक सबसे पहले उन्हें दीया कुमारी ने फोन किया था और इस संबंध में बात की थी. इसके बाद केंद्र सरकार के नेताओं और राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने विश्वराज सिंह से बातचीत की. बताया जाता है कि मीटिंग में तय हो चुका था कि वे भाजपा ज्वॉइन करेंगे, लेकिन इसे लेकर तारीख तय नहीं हुई थी. जिसके बाद आखिरकार उन्होंने दूसरी लिस्ट जारी होने से पहले 17 अक्टूबर को पार्टी की सदस्यता ली और उन्हें नाथद्वारा से टिकट दिया गया.

यह भी पढ़ें...

यह भी पढ़ेंः जोधपुर में गहलोत का चुनाव प्रचार शुरू, वसुंधरा राजे को लेकर फिर बोले- मेरी वजह से उन्हें तकलीफ हो रही

    ADVERTISEMENT