गहलोत के बयान पर जयराम की दो टूक, कहा- राजस्थान में वही चुना जाएगा जो संगठन मजबूत करेगा

ADVERTISEMENT

फोटो ट्वीटर से ली गई है.
फोटो ट्वीटर से ली गई है.
social share
google news

Rajasthan News: राजस्थान में सत्ता के लिए चल रही खींचतान की लड़ाई अब आर-पार की स्थिति में आ चुकी है. सीएम गहलोत ने एक टीवी को दिए इंटरव्यू में सचिन पायलट पर अब तक का सबसे तीखा हमला बोला है. गहलोत ने सचिन पायलट को गद्दार बताया. वहीं पायलट ने जवाब में गहलोत के बयान को झूठा करार दिया. आपसी विवाद में बीजेपी ने भी सीएम गहलोत को घेरने की कोशिश की. लेकिन अब इस मसले पर कांग्रेस आलाकमान सख्त होता दिख रहा है.

रविवार को इंदौर में भारत जोड़ो यात्रा के संबंध की एक प्रेस कॉन्फेंस में कांग्रेस महासचिव और कम्युनिकेशन  इंचार्ज जयराम नरेश ने स्पष्ट बयान दिया है. उन्होंने गहलोत-पायलट के बीच चल रहे मतभेद पर अपने पुराने दो बयानों को दोहराते हुए कहा कि ‘राजस्थान में वही चुना जाएगा जो संगठन को मजबूत करेगा. अगर कठोर निर्णय लेने हैं तो लिए जाएंगे’.

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के शब्द अप्रत्याशित अनएक्सपेक्टेड थे. उन्हें कुछ शब्दों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए था. ऐसे शब्दों के प्रयोग से मुझे काफी आश्चर्य हुआ. राजस्थान के संबंध में निर्णय के सवाल पर कहा कि मैं कोई समय सीमा तय नहीं कर सकता. वह कांग्रेस आलाकमान तय करेगा.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

जयराम रमेश ने आगे कहा कि मैं राजस्थान के मुद्दे पर पहले भी कह चुका हूं और अब तीसरी बार दोहरा रहा हूं. गहलोत सीनियर व अनुभवी नेता है और पायलट युवा, लोकप्रिय व ऊर्जावान नेता है. पार्टी को दोनों की जरूरत है. पार्टी में व्यक्ति का महत्व नहीं है, व्यक्ति तो आते-जाते रहते हैं. इन सबसे ऊपर संगठन है. जयराम रमेश ने आगे कहा, राजस्थान में भारत जोड़ो यात्रा सफल रहेगी, बयानबाजी तो चलती रहती है.

हालांकि महासचिव केसी वेणुगोपाल ने इस मसले का हल सौहार्दपू्र्ण निकालने की बात कही. उन्होंने राजस्थान में चल रहे मतभेद पर कहा कि कभी-कभी विचार खुलकर बाहर आ जाते हैं. राजस्थान में भी विवाद खुलकर आ गया है. पार्टी इसका सौहार्दपूर्ण हल निकालेगी.

ADVERTISEMENT

गौरतलब है कि राजस्थान में भारत जोड़ो यात्रा करीब 4 दिसंबर को झालावाड़ प्रवेश में करेगी. ऐसे में राजस्थान कांग्रेस के भीतर मच रही कलह अब खुलकर सामने आ चुकी है. पायलट समर्थक विधायक यात्रा के दौरान सचिन को सीएम बनाने की मांग कर रहे हैं तो वहीं गहलोत पायलट को सीएम बनाने का खुलकर विरोध कर रहे हैं.

ADVERTISEMENT

    ADVERTISEMENT