खिलाड़ियों की शर्ट पर ही खर्च हुए 126 करोड़ रुपए! गहलोत के राज में ग्रामीण ओलम्पिक में बड़ा खेल?

ADVERTISEMENT

Rajasthantak
social share
google news

Rajasthan news: मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा (bhajanlal sharma) पूर्ववर्ती गहलोत सरकार की कई योजनाओं की समीक्षा होने की बात कह चुके हैं. वहीं, अब कांग्रेस सरकार के कार्यकाल के दौरान भ्रष्टाचार की भी बात सामने आई है. जिसे लेकर विधानसभा में खुद खेल मंत्री कर्नल राज्यवर्धन राठौड़ ने जवाब भी दिया. उन्होंने 30 जनवरी को विधानसभा में कहा कि पूर्ववर्ती सरकार के समय हुए राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक खेलों (gramin olympics rajasthan) में केवल टी-शर्ट इत्यादि की खरीद पर हुए व्यय में यदि कोई भ्रष्टाचार हुआ है तो राज्य सरकार वित्त विभाग के माध्यम से इसकी पूरी जांच कराएगी. कर्नल राठौड़ प्रश्नकाल के दौरान सदस्य द्वारा इस संबंध में पूछे गए पूरक प्रश्नों का जवाब देते हुए यह बात कही.

दरअसल, सदन में विधायक मनोज कुमार ने कहा था कि हम जानना चाहते हैं कि एक अरब 26 करोड़ की शर्ट और निकर खरीदी गई, प्रति टी-शर्ट और निकर की कीमत बताई जाए? कितनी संख्या में बांटे गए ? कितनी संख्या का रजिस्ट्रेशन हुआ.

राठौड़ ने दिया ये जवाब

मंत्री ने जवाब देते हुए कहा कि यह गंभीर चिन्ता का विषय है कि पूर्ववर्ती सरकार के समय 126 करोड़ रुपए की राशि इनकी खरीद पर व्यय कर दी गई. उन्होंने कहा कि खेल विभाग के बजट से भी 4 गुना अधिक बजट इन खेलों के आयोजन में किया गया और किसी भी नए स्टेडियम अथवा स्थायी परिसंपत्ति का निर्माण नहीं हुआ. उन्होंने कहा कि मुख्य खेल अधिकारी के चयन को लेकर भी किसी तरह की अनियमितता हुई है तो उसकी भी जांच कराई जाएगी.

दो साल के दौरान ग्रामीण ओलंपिक में आया इतना खर्च

इससे पहले विधायक मनोज कुमार के मूल प्रश्न के लिखित जवाब में खेल मंत्री ने बताया कि प्रदेश में राजीव गांधी ग्रामीण ओलंपिक खेल- 2022 में 40 करोड़ 92 लाख 56 हजार 890 रुपए की राशि व्यय हुई. इसी प्रकार राजीव गांधी ग्रामीण एवं शहरी ओलंपिक खेल- 2023 में 155 करोड़ 46 लाख 72 हजार 500 रुपए की राशि व्यय हुई. उन्होंने इन दोनों प्रतियोगिता के आयोजन में हुए व्यय का विवरण सदन के पटल पर रखा.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

कर्नल राठौड़ ने बताया कि ग्रामीण ओलंपिक खेलों में हुए व्यय की अभी तक कोई जांच नहीं हुई है. उन्होंने बताया कि विधायक की मांग को देखते हुए ग्रामीण ओलंपिक खेलों में हुए व्यय की जांच करवाई जाएगी. उन्होंने बताया कि राजस्थान क्रीडा सहायता अनुदान नियम के तहत 7 हजार 145 आवेदन प्राप्त हुए, जिनकी समीक्षा व प्रमाणीकरण पश्चात पात्र खिलाडियों को देय राशि का निर्धारण होगा. उन्होंने बताया कि आउट ऑफ टर्न सरकारी सेवा में नियुक्ति के लिए 142 खिलाड़ियों के आवेदन चयन प्रक्रियाधीन है.

सदन में पहली बार गरजे सीएम भजनलाल ने विपक्ष को दिया करारा जवाब! कांग्रेस पर बोला बड़ा हमला

    ADVERTISEMENT