सीएम गहलोत के मंत्री ही खड़े कर रहे उनकी कार्यशैली पर सवाल? जानिए क्या है इसके मायने

ADVERTISEMENT

Rajasthantak
social share
google news

Rajasthan News: राजस्थान पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट के बगावती तेवर के बीच अब सीएम गहलोत के मंत्री भी उनक कार्यशैली पर सवाल खड़े कर रहे हैं. प्रताप सिंह खाचरियावास, दिव्या मदेरणा, राजेन्द्र गुढ़ा के बाद अब मुरारी लाल मीणा ने भी अपनी ही सरकार पर सवाल उठाया है.

इधर मंत्री मुरारी लाल मीणा ने कहा कि एसीआर अगर मंत्री भरता है तो निश्चित कई जगह डिस्प्यूट हो जाते हैं. मंत्री सेक्रेटरी की नहीं सुनते, सेक्रेटरी मंत्री की नहीं सुनते. सिस्टम सेट होता है.

गौरतलब है कि इससे पहले मंत्री राजेन्द्र गुढ़ा कहा था कि राजस्थान में एक कॉन्स्टेबल का ट्रांसफर भी गहलोत ही करते हैं. इससे पहले प्रताप सिंह खाचरियावास ने भी राजस्थान की ब्यूरोकेसी पर सवाल खड़े कर चुके हैं.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

यानी राजस्थान सरकार में इस वक्त सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. विधायक और मंत्री ये समझ चुके हैं कि गहलोत के हाथ से सत्ता जाने वाली है. क्या गहलोत सरकार प्रशासन को संभालने में विफल साबित हो रही है. ये तमाम सवाल इस वक्त राजनीतिक गलियारों में चर्चा का विषय बने हुए हैं.

जिस तरह से गहलोत के मंत्री ही उनकी कार्यप्रणाली पर पर सवाल उठा रहे हैं तो ये सवाल तो उठने लाजमी हैं. दरअसल, इस वक्त राजस्थान में एसीआर और पावर सेटंरलाइजेशन को लेकर गहलोत के मंत्रियों के बयान बेदह चर्चा में हैं. इस मुद्दे पर जब राजस्थान तक के रिपोर्टर ने मंत्री मुरारी लाल मीणा से बात की तो उन्होंने पहले तो गहलोत के पक्ष में बात की, लेकिन उसके बाद उनके दिल का दर्द भी उनकी जुबान पर आ ही गया.

ADVERTISEMENT

कंटेंट: संदीप मीणा

ADVERTISEMENT

    ADVERTISEMENT