केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने राहुल के मोहब्बत बांटने वाले बयान पर 1984 के दंगे का जिक्र कर कही ये बात

ADVERTISEMENT

Rajasthantak
social share
google news

Jodhpur News:केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर गुरुवार को जोधपुर पहुंचे. यहां एयरपोर्ट से बाहर निकलते ही पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए उन्होंने गहलोत सरकार और राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा पर जमकर निशाना साधा. एक तरफ अनुराग ठाकुर ने राजस्थान में पेपर लीक और कोटा में हो रही आत्महत्याओं को लेकर गहलोत सरकार को घेरा. वहीं दूसरी तरफ राहुल गांधी के भारत जोड़ो यात्रा के बयान- ‘मैं देश में मोहब्बत बांटने निकला हूं ना कि नफरत बांटने’ पर 1984 के दंगे का जिक्र करते हुए कांग्रेस सरकार पर सवाल उठाए.

अनुराग ठाकुर ने कहा- जिनका इतिहास 1984 के दंगों से लेकर देशभर के दंगों के साथ जुड़ा रहा हो, जिन्होंने जम्मू कश्मीर में धारा 370 35ए लागू की है, जिसके कारण 45-50 हजार लोगों की मृत्यु पिछले कई वर्षों में हुई हो, मेरा सवाल उनसे यह है कि क्या अनुच्छेद 370 35ए जम्मू कश्मीर से समाप्त किया गया इससे राहुल गांधी जी सहमत हैं?

अनुराग ठाकुर ने आगे कहा- जम्मू कश्मीर में जो एक करोड़ 60 लाख से ज्यादा पर्यटक पिछले नौ महीनों में आए क्या उसका वो स्वागत करते हैं? क्या जम्मू-कश्मीर में जो पथराव की घटनाएं बंद हुईं और आतंकवाद के खिलाफ कड़ी कार्रवाई हुई 370 35ए हटने के बाद हुआ, राहुल गांधी जी उसका स्वागत करते हैं? अगर यह सब जम्मू-कश्मीर के हित में हुआ है और वहां पर रोजगार के अवसर बढ़े हैं, निवेश आया है तो क्या इनकी यात्रा मोहब्बत फैलाने जा रही है या वातावरण खराब करने जा रहे हैं?

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

यह भी पढ़ें: Paper Laek मामले में गहलोत सरकार पर बरसे अरुण सिंह, वसुंधरा राज में इसी मामले पर साधी चुप्पी!

पेपर लीक पर बोले अनुराग ठाकुर
पेपर लीक पर गहलोत सरकार पर निशाना साधते हुए अनुराग ठाकुर ने कहा- देखिए जहां रोजगार के अवसर मिलना तो दूर की बात पेपर लीक एक बार नहीं 8 बार हो और गहलोत सरकार ने कितनी जानें लीं. अब यह प्रश्न उठता है कि राजस्थान में कांग्रेस सरकार को और कितनी जाने लेनी हैं और कितने बेरोजगारों को आत्महत्या के लिए मजबूर करना पड़ रहा है. राजस्थान सरकार की ऐसी क्या मजबूरी है एक नहीं कई बार पेपर लीक होते हैं और इनके मंत्रियों और रिश्तेदारों के लोग उच्च पद भी पाते हैं. सलेक्ट भी हो जाते हैं, लेकिन राजस्थान का युवा हताश, निराश होकर आत्महत्या करने को मजबूर हो रहा है.

ADVERTISEMENT

कोटा की घटना पर इनके मंत्रियों के बयान असंवेदनशील
अनुराग ठाकुर ने कहा- जब कोटा की घटना और अन्य घटनाओं पर इनके मंत्रियों के बयान आते हैं, वो संवेदनशील नहीं हैं. राजस्थान सरकार को तो जनता से लेना देना नहीं है. न ही युवाओं से लेना देना है. वे तो सिर्फ अपना घर अपना पेट भरने के लिए सत्ता में आए हैं.

ADVERTISEMENT

राजस्थान की कानून व्यवस्था चरमरा गई है- ठाकुर
राबर्ट वाड्रा जमीन घोटाले पर अनुराग ठाकुर ने कहा- मुझे लगता है कि राजस्थान सरकार के 4 वर्ष से अधिक समय आरोप-प्रत्यारोप और घोटालों से लेकर मिस मैनेजमेंट का रहा है. कानून व्यवस्था राज्य की चरमरा गई है, जो कभी शांत राज्य गिना जाता था पर्यटन की दृष्टि से राज्य के रूप में देखा जाता था वहां पर हर तीसरे दिन कोई ना कोई घटना घटती है. जहां पर महिलाएं अपने आप को असुरक्षित महसूस करती हैं, खनन माफिया का बोलबाला है और सरकार कोई कदम नहीं उठाती. पता है कि सरकार ने हाथ खड़े कर रखे हैं.

दूसरे पर ठीकरा फोड़ देना उनकी आदत- ठाकुर
ओपीएस मामले पर अनराग ठाकुर ने कहा कि यह एक प्रक्रिया है जब सभी राज्यों ने न्यू पेंशन स्कीम को लेकर सहमति दी थी. अब उसके आगे जो कदम उठाने हैं उनको पता है प्रक्रिया क्या है. केवल दूसरे पर ठीकरा फोड़ देना उनकी पुरानी आदत है. वायदा किया था कि किसानों के कर्ज माफ करेंगे. साढ़े चार साल हो गए, राजस्थान में अभी तक भी सभी किसानों के कर्ज माफ नहीं हो पाए. रोजगार भत्ता देने का काम शुरू नहीं हो पाया है.

यह भी पढ़ें: सतीश पूनिया ने प्रेस कॉफ्रेंस कर पूछा- रॉबर्ट वाड्रा किसानों की जमीन कब लौटाएंगे, गहलोत जवाब दे

    ADVERTISEMENT