पत्नी से भूत-प्रेत का साया दूर करने के लिए अजमेर बुलाया, 1.5 लाख मिलते ही रफूचक्कर हुआ तांत्रिक 

ADVERTISEMENT

Rajasthantak
social share
google news

Rajasthan News: अलवर जिले में रहने वाले एक परिवार को अजमेर स्थित सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह में तंत्र-मंत्र विद्या से भूत प्रेत का इलाज का झांसा देकर 1.50 लाख की ठगी का मामला सामने आया है. दो शातिर बदमाशों ने 1.50 लाख की नगदी हड़प ली और रद्दी कागज के टुकड़ों की पोटली बैग में रखकर चंपत हो गए. पीड़ित को जब ठगी का अहसास हुआ तो उसके होश उड़ गए. पीड़ित अमर सिंह ने दरगाह पुलिस थाने में गया लेकिन उसका आरोप है कि पुलिस ने उसकी सुनवाई नहीं की, जिससे आरोपी भागने में सफल हो गए, बाद में वह पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचा और आपबीती बताई, एसपी के निर्देश पर पुलिस टीम ने अपराधियों की तलाश कर रही है.

पीड़ित बड़ौदामेव अलवर निवासी अमर सिंह ने बताया कि उसकी पत्नी सुनीता का स्वास्थ्य कुछ समय से खराब चल रहा है. कुछ लोगों ने उसे ऊपरी हवा व भूत प्रेत का चक्कर बता कर इलाज कराने की सलाह दी. ऐसे में 3 दिन पहले आरोपी तांत्रिक बाबा इरफ़ान व इमरान उसके घर आए और उसकी पत्नी को देखकर बीमार होने और उस पर भूत प्रेत का साया होने की बात कहने लगे.

आरोपी तांत्रिक बाबा ने उसे परिवार सहित सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह में आकर उसका इलाज कराने की सलाह दी और उसके लिए तीन लाख के खर्च की बात कही. तांत्रिक बाबा ने उससे कहा की यह रुपए वह नहीं लेगा बल्कि इससे पूजन सामग्री लाएगा. अमर सिंह ने अपनी बीवी के गहने गिरवी रखकर डेढ़ लाख रुपए का बंदोबस्त किया और वह रुपए लेकर अजमेर आ गया. जहां तांत्रिक बाबा उसे ढाई दिन के झोपड़े पर ले गया और इलाज के नाम पर डेढ़ लाख रुपए ले लिए. तांत्रिक बाबा ने उन्हें विश्वास दिलाया कि यह पैसे वह खुद नहीं रखेगा बल्कि इसका पूजा सामग्री व अन्य सामान खरीद कर लाएगा.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

यह भी पढ़ें: जोधपुर: बाल विवाह के बाद गौना नहीं करने पर 25 लाख का जुर्माना! पीड़िता ने खाया जहर

ADVERTISEMENT

तांत्रिक बाबा ने अमर सिंह से नोटों का बंडल ले लिया और उसे वहीं रुकने की बात कह कर चला गया. कुछ देर बाद जब तांत्रिक वापस आया तो उसने हरे कपड़े में बंडल लपेटकर उसे वापस दे दिया और अमर सिंह से कहा कि अगले 24 घंटे तक इस पोटली को मत खोलना लेकिन कुछ देर बाद अमर सिंह को तांत्रिक बाबा की बात पर शक होने लगा और उसने पोटली को खोल दिया.

ADVERTISEMENT

पोटली को खोलते ही अमर सिंह के होश फाख्ता हो गए. उस पोटली में नोटों की जगह रद्दी कागज भरे हुए थे. इसके बाद अमर सिंह को उसके साथ हुई ठगी का अहसास हुआ और उसने तुरंत दरगाह थाना पहुंचकर अपनी आपबीती सुनाई लेकिन दरगाह थाना पुलिस द्वारा कोई ठोस कार्रवाई नहीं होने पर वह अजमेर एसपी ऑफिस पहुंचा और एसपी से पूरे मामले में उचित कार्रवाई की मांग की. अजमेर एसपी के निर्देश पर दरगाह थाना पुलिस दोनों आरोपियों की तलाश कर रही है.

कंटेंट: चंद्रशेखर शर्मा

यह भी पढ़ें: खुशखबरी! 48,000 पदों पर होगी REET परीक्षा, विज्ञप्ति जारी, देखें परीक्षा शेड्यूल

    ADVERTISEMENT